आयुष्मान खुराना ने कहा है कि फिल्म आर्टिकल 15 में वे एक आईपीएस अफसर की भूमिका निभा रहे हैं और पुलिस—गुंडों वाली पहले की फिल्मों से यह बिलकुल अलग है।

आर्टिकल 15 में अपने रोल और सिम्बा और सिंघम से यह अलग कैसे है, इस सवाल का जवाब देते हुए आयुष्मान ने कहा, “बहुत ही फर्क है, वे अलग-अलग तरह के पुलिस अफसर हैं। पहली बात कि मैं फिल्म में SHO नहीं हूं। बल्कि एक आईपीएस अफसर का रोल निभा रहा हूं। उसकी एक अलग तैयारी होती है। फिल्म का सब्जेक्ट बहुत ही रियल है और कुछ रियल मुद्दों से प्रेरित है।”

“जहां तक बात मेरे रोल की है तो मेरे बहुत सारे दोस्त IPS हूं। मैंने इसकी तैयारी के लिए बॉलीवुड फिल्में नहीं देखी हैं क्योंकि इसे मैंने बहुत ही रियल रखने की कोशिश की है।”

आयुष्मान ने कहा, “हमारा देश बहुत ही यूनीक देश है, क्योंकि सभी तरह के लोग यहां रहते हैं और हम बहुत ही सेंसटिव हैं। हमें खुद पर गर्व होता है, साथ ही हमें अपनी कम्युनिटी पर भी बहुत गर्व होता हैं, क्योंकि हम वास्तविक जीवन में इतने डिप्रेस्ड हैं कि हमें गर्व करने के लिए कुछ चाहिए। लेकिन इस फिल्म की मुहिम यह है कि सभी को देश पर गर्व करना चाहिए। हमें देश को इंम्प्रूव करना है। अंधे होकर गर्व नहीं करना है।”

“और हां समाज के कुछ लोग फिल्म से नाराज हो गए हैं, लेकिन जब वे इस फिल्म को देखगे, तो उन्हें एहसास होगा कि हमने किसी को नाराज नहीं किया है। हमने फिल्म में किसी विशेष कम्युनिटी को टारगेट नहीं किया है।”

फिल्म की कहानी 2014 में उत्तर प्रदेश के बदायूं में हुए रेप केस पर आधारित है। फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह अपनी मजदूरी में केवल 3 रुपये बढ़वाने की मांग करने पर तीन लड़कियों का रेप कर उन्हें मार दिया जाता है और उनके शव को पेड़ पर लटका दिया जाता है।

“आर्टिकल 15” में ईशा तलवार, मनोज पाहवा, सयानी गुप्ता, कुमुद मिश्रा, एम नासर, आशीष वर्मा, सुशील पांडे, सुब्रज्योति भरत और मोहम्मद जीशान अय्यूब भी हैं।

फिल्म को अनुभव सिन्हा ने डायरेक्ट किया है। इसे अनुभव सिन्हा और ज़ी स्टूडियो प्रोड्यूस कर रहे हैं।
आर्टिकल 15 28 जून को रिलीज़ होने वाली है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here