अभिनेत्री तापसी पन्नू ने कहा कि वह एक चैलेंजिंग रोल की तलाश कर रही थीं, इसलिए उन्होंने स्क्रिप्ट सुनने के तुरंत बाद ही “सांड की आंख” करने के लिए हां कर दी।

“सांड की आंख” के निर्माताओं ने कल रात मुंबई में फिल्म के रैप-अप के उपलक्ष्य में एक पार्टी रखी। तापसी पन्नू, भूमि पेडनेकर, अनुराग कश्यप, तुषार हीरानंदानी सहित कलाकारों के साथ टीम के अन्य लोग भी मौजूद रहे।

फिल्म एक बायोपिक है जो शार्पशूटर चंद्रो तोमर और उनकी भाभी प्रकाशी तोमर के जीवन पर आधारित है। फिल्म में तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

तापसी और भूमि फिल्म में बहुत ही ज्यादा उम्रदराज का किरदार निभाते हुए दिखाई देंगे, जिसने फिल्म जगत में एक बहस छेड़ दी है।

जब इस बारे में तापसी पन्नू से पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “अभी मुझे पता चला है जब इस विषय पर चर्चा हुई थी;  निर्माताओं ने छोटी लड़कियों को इस भूमिका के लिए क्यों लिया? इस उम्र के लोगों को क्यों नहीं लिया गया? जब मैं 30 साल की होने के बावजूद कॉलेज की लड़की की भूमिका निभाई तब किसी ने मुझसे कुछ नहीं पूछा। कॉलेज के स्टूडेंट की भूमिका निभाने के लिए बड़े लोगों को क्यों चुना जाता है? ”

“जो लोग 50 साल के हैं, वे कॉलेज के स्टूडेंट की भूमिका निभा रहे हैं, और यह सभी के साथ ठीक है। लेकिन जब एक छोटा अभिनेता एक बड़ी भूमिका निभाता है, तो लोग सवाल करने लगते हैं। मुझे अपने निर्माताओं के से पता चला कि अभिनेत्रियाँ जो उस उम्र के करीब थीं, उन्होंने फिल्म करने से मना कर दिया था”।

“साड़ की ऑख” अनुराग कश्यप, रिलायंस एंटरटेनमेंट और निधि परमार द्वारा निर्मित है।
फिल्म में प्रकाश झा और विनीत कुमार सिंह भी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं।
यह 25 अक्टूबर 2019 को रिलीज़ के लिए स्लेटेड है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here