पिछले साल रिलीज हुई फिल्म केदारनाथ की सफलता के बाद अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ‘सोनचिड़िया’ सिनेमा घरों में आने को तैयार है। उनकी यह फिल्म 1 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। आइए, सुशांत से जानें इस फिल्म में उनके किरदार के साथ पर्सनल लाइफ की और भी बातें।
 
फिल्म सोनचिड़िया की स्टोरी क्या है?
यह फिल्म बाकी डैकेत वाली फिल्मों से बहुत अलग है, लेकिन काफी दिलचस्प भी। यहां हर कोई अपने हक के लिए हाथ में बंदूक लिए खड़ा है। सभी को सोने की चिड़िया चाहिए, मगर वो ना तो किसी के हाथ आज तक आई है और ना ही आएगी। मैं भी उन्हीं में से एक बागी का रोल निभा रहा हूं। मेरी भी कुछ अपनी ख्वाहिशें हैं। खैर, मेरे लिए डकैत का किरदार निभाना काफी चैलेंजिंग रहा।
फिल्म की शूटिंग चंबल में हुई है, ऐसे में आपको कितनी मदद मिली?
यदि शूटिंग कहीं और होती, तो मेरी दाढ़ी-मूंछ जरूर बढ़ जाती। साथ ही मुझे बार-बार खुद को यह कहकर प्रीपेयर करना पड़ता कि मैं चंबल में हूं, धूप में हूं, पास में रेत है, गर्मी है आदि। लेकिन चंबल में होने से खुद को बार-बार यह बताना नहीं पड़ रहा था कि मैं चंबल में हूं, इसलिए काम और भी आसान हो गया था। इससे मुझे पर्सनल फायदे भी हुए, जैसे मुझे जिम की जरूरत नहीं पड़ी, डायट का भी टेंशन नहीं था, जो चाहे खा लेता था।
फिल्म में मनोज बाजपेयी के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?
मनोज जी बहुत अच्छे एक्टर हैं, मैं तब से उनका फैन हूं, जब मैं भी आम इंसान था, एक्टर नहीं। मैं खुद को लकी मानता हूं कि मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला। वो एक बहुत ही अच्छे इंसान हैं, वो बहुत अच्छे कुक भी हैं। शूटिंग के वक्त उन्होंने कई बार हम सबके लिए खाना भी बनाया था।
डायरेक्टर अभिषेक चौबे के बारे में क्या कहेंगे ?
अभिषेक जी के साथ मैं कई सालों से काम करना चाहता था। मगर मुझे मौका नहीं मिल रहा था। मैं उस समय का इंतजार कर रहा था जब मुझे यह मौका मिले। मुझे बेहद खुशी है कि इस फिल्म के लिए अभिषेक खुद मुझे ढूंढते हुए आए। उनकी मैं जितनी तारीफ करूं उतनी कम होगी, वो बहुत कमाल के डायरेक्टर हैं। कहानी कहकर सुनाने से लेकर डायरेक्शन तक बहुत अच्छे से करते हैं।
फिल्म केदारनाथ के दौरान आपसे ज्यादा साराअली खान के चर्चे थे, इस बारे में आप क्या कहेंगे?
जी बिल्कुल, साराअली खान के काफी चर्चे थे और होने भी चाहिए, क्योंकि केदारनाथ उनकी पहली फिल्म थी। मुझे तो इंडस्ट्री में आए 12 साल हो गए हैं, मेरे बारे में कई बार बातें हो चुकी हैं। ऐसे में मेरे बारे में बात करना गलत है, उनका सुर्खियों में होना ही सही है। मैं खुद उनकी सुर्खियों में होने से खुश था, उनकी सुर्खियों में होना मतलब मेरी फिल्म का सुर्खियों में बने रहना।
आप अपनी होने वाली पत्नी में कौन सी क्वालिटी देखना चाहते हैं? 
ऐसे तो बहुत सारी क्वालिटी है, जो मैं अपने हमसफर में देखना चाहता हूं, मगर मेरे हिसाब से सबसे जरूरी है उसका मुझ पर विश्वास होना और मुझे समझना। उसे इस बात की खबर होनी चाहिए कि अगर मैं किसी चीज को पाने के लिए इतनी मेहनत कर रहा हूं, तो जरूर वो चीज कुछ खास होगी, तो उसे मेरा साथ देना चाहिए, न कि मुझे परेशान करना चाहिए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here